किडनी इंफेक्शन के कारण, लक्षण व उपाय| what is kidney infection in hindi

किडनी हमारे शरीर का बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है। बताते चलें कि मनुष्य की किडनी शरीर में 500 से अधिक गतिविधियों में मदद करती है। नमक, अनावश्यक दवाइयों या पानी की कमी (water level down in human body) के कारण किडनी में संक्रमण (kidney infection) होता है। आज हम जानेंगे कि what is kidney infection in hindi.

यह सभी जानते हैं कि किडनी हमारे रक्त को छानती हैं। ऐसी स्थिति में, यदि इसके गुच्छों में सूजन या संक्रमण होता है, तो गुर्दे के कई कार्य प्रभावित होते हैं। ब्लड प्रेशर और डायबिटीज के मरीजों को हमेशा kidney infection का खतरा बना रहता है। kidney infection से कमर दर्द होना इसका सबसे प्रथम चरण होता है।

किडनी में संक्रमण क्यों होता है? Why do kidney infections occur in Hindi

कमर और पीठ में दर्द वैसे तो एक आम समस्या है जो दिन प्रतिदिन किसी ना किसी के मुँह से सुनने को मिल ही जाती है। यह मांसपेशियों में खिंचाव से उत्पन्न होता है और यह खिंचाव यदि आपको लंबे समय तक है या फिर बार बार होता है तो आपको kidney infection का खतरा हो जाता है। पीठ दर्द होने पर लोग आमतौर पर दर्द निवारक बाम, तेल या दवाओं का उपयोग करके राहत पा लेते हैं क्योंकि उन्हें इस बात की जानकारी ही नही होती कि यह किसी गंभीर बीमारी के ओर इशारा कर रही है।

कई बार किडनी में कई तरह की समस्याओं के कारण आपको कमर दर्द की शिकायत हो सकती है। यदि आपको अक्सर पीठ में दर्द की शिकायत बनी रहती है, तो यह गुर्दे में संक्रमण यानी की kidney infection के कारण हो सकता है।

आमतौर पर कम पानी पीने, शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने, अधिक आयरन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करने या टमाटर, बैंगन आदि सब्जियों का अधिक सेवन करने से गुर्दे की पथरी (kidney stone) का भी खतरा बढ़ जाता है।

इस बीमारी में, यूरिक एसिड या कैल्शियम और शरीर में मौजूद अन्य कण एक ठोस आकार बनाने के लिए एक साथ आते हैं, जिससे शरीर की हरकतें बाधित होती हैं और दर्द शुरू हो जाता है। और इसकी वजह से किडनी में दर्द शुरू हो जाता है।

गुर्दे के संक्रमण के लक्षण | Symptoms of kidney infection in hindi

हम kidney infection के पहले चरण जानकारी प्राप्त नही कर पाते हैं और इससे होने वाली समस्याओं को आम समस्या समझ बैठते हैं। ऐसा अक्सर होता है कि जब तक हमे किसी रोग की जानकारी होती है तब तक काफी देर हो चुकी होती है। इसीलिए तो हम आपको इसके कुछ लक्षण बताने जा रहे हैं, जिससे आप शुरुआती दौर में ही kidney infection ke lakshan को पहचान सकते हैं।

किडनी इन्फेक्शन के लक्षण: symptom of kidney infection:-

  • नींद की समस्या | Sleep problem
  • थका हुआ और कमजोर होना | Tired and weak
  • अक्सर बीमार रहना | Often sick
  • मूत्र की मात्रा में कमी | Decreased urine volume
  • पैरों और टखनों में सूजन | Swelling of feet and ankles
  • खुजली | itching
  • सांस फूलने की समस्या हो जाना | Shortness of breath
  • भूख कम लगना | Loss of appetite
  • शरीर में पीलापन | Pale body

किडनी इंफेक्शन होने के कारण | Causes of kidney infection in hindi

किडनी में इंफेक्शन होने के एक नही अनेकों कारण होते हैं। बारी बारी हम आपको सभी कारण बताएंगे। हालांकि जरूरी नहीं है कि इंफेक्शन केवल इन्ही कारणों से होता है। बल्कि हम जिन कारणों के बारे में बताने जा रहे हैं ये केवल एक अनुमान है।

नमक का सेवन

what is kidney infection in hindi

नमक के अंदर बहुत ढेर सारा सोडियम मौजूद होता है। जब हम भोजन में अत्यधिक नमक मिलाते हैं, तो रक्त की सफाई के दौरान किडनी द्वारा इसे शरीर से बाहर निकालना बहुत मुश्किल हो जाता है। इससे किडनी पर दबाव पड़ता है और इंफेक्शन हो जाता है।

बहुत अधिक कैफीन का सेवन करना

Coffee for what is kidney infection in hindi

बहुत अधिक कॉफी पीना अन्य कैफीन वाले पेय पीने से गुर्दे की क्षति हो सकती है, क्योंकि अधिक कैफीन का सेवन ब्लड प्रेशर को बढ़ाता है। जिससे किडनी के कार्य क्षमता पर असर पड़ता है।

अधिक दर्द निवारक दवाओ का सेवन

Pain kiler for kidney infection in hindi

यदि आप लंबे समय से दर्द निवारक दवा खा रहे हैं, तो यह किडनी के कार्य को प्रभावित करता है। शरीर में खून की कमी भी हो सकती है।

सर्दी या फ्लू में लापरवाही

Flue fever

जुकाम या फ्लू होने पर ज्यादा काम न करें। इस बीच, अपने शरीर को पूरा आराम दें। यदि बुखार के दौरान, आप शरीर को अधिक थका देंगे, तो इसका गुर्दे की कार्यक्षमता पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा। और आपको समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

किडनी इंफेक्शन का संकेत | Signs of kidney infection in hindi

अगर आप पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन नहीं कर रहे है और तब भी आपको बार-बार पेशाब आ रहा है तो यह किडनी में संक्रमण का कारण हो सकता है।

यदि आप अचानक पीठ दर्द महसूस करते हैं, तो इसे अनदेखा न करें। लंबे समय तक पीठ दर्द गंभीर किडनी संक्रमण का संकेत देता है।

पेशाब में खून आना, पेशाब करते समय जलन और कभी कभी दर्द महसूस होना भी किडनी में संक्रमण का लक्षण हो सकता है।

अगर आपको बार-बार ये समस्याएं हो रही हैं, तो इसे अनदेखा न करें। ये सभी kidney infection के कारण हो सकते हैं। आपको बगैर देर किए डॉक्टर को दिखाना चाहिए और अपना चेकअप करवाना चाहिए।

किडनी के संक्रमण से बचने के घरेलू उपाय | Home remedies to avoid kidney infection in hindi

  बेकिंग सोडा

बेकिंग सोडा को कभी-कभी गुर्दे के संक्रमण के लिए एक घरेलू उपचार के रूप में प्रयोग में लाया जाता है। ऐसा मानना ​​है कि गुर्दे को बेहतर ढंग से फ़िल्टर करने में बेकिंग सोडा काफी कारगर साबित होता हैं।

  लहसुन

Bawasir me lahsun ka upyog

लहसुन कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार करता है, जिससे हृदय रोग का खतरा कम हो सकता है। लहसुन गुर्दे की कार्यक्षमता में सुधार कर सकता है। नियमित रूप से सुबह खाली पेट लहसुन की 2 या 3 लौंग खाएं। इसके जीवाणुरोधी, विरोधी भड़काऊ और विरोधी कवक गुण गुर्दे की बीमारी से बचाते हैं।

  सेब का सिरका

सेब का सिरका apple vinegar

सेब का सिरका सबसे लोकप्रिय घरेलू उपचारों में से एक है। एंटीबैक्टीरियल गुणों से भरपूर सेब का सिरका किडनी संक्रमण की समस्या को दूर करने में अहम भूमिका निभाता है। रोजाना एक गिलास गर्म पानी के साथ दो चम्मच एप्पल साइडर विनेगर लेने से किडनी को बैक्टीरिया के संक्रमण से बचाता है।

  अंडे सा सफेद भाग

Egg white

अंडे का सफेद हिस्सा किडनी को ठीक रखने में भी मदद करता है। इसमें प्रोटीन होता है, जो किडनी के मरीजों के लिए फायदेमंद है। अंडे के सफेद भाग का सेवन करें। उबले अंडे के पीले भाग को ना खाएं।

शिमला मिर्च

Capsicum

पपरिका में भरपूर मात्रा में विटामिन ए, बी 6, फोलिक एसिड और फाइबर होता है।

जैसे ही गुर्दे के संक्रमण के लक्षण दिखाई देते हैं, आपको किसी डॉक्टर से चेकअप करवाना चाहिए और कोई भी दवा लेने से पहले डॉक्टर से सलाह अवश्य लेनी चाहिए। अन्यथा आपको कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।