मोबाइल से हो सकता है बवासीर, जानिए कैसे? Piles problem due to mobile in hindi

स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि लंबे समय तक टॉयलेट सीट पर बैठने से लोग बवासीर से पीड़ित हो सकते हैं। ज्यादा देर तक सीट पर बैठने से निचले मलाशय में गुदा की नसों पर दबाव बढ़ जाता है, जिसके कारण यह समस्या उत्पन्न हो जाती है।

Piles problem due to mobile in hindi

अगर आप अपने टॉयलेट में स्मार्टफोन लेकर जाते हैं और फिर ज्यादा समय खर्च करते हुए फोन का इस्तेमाल करते हैं, तो आपके पाइल्स होने की संभावनाओं में एक या दो नही बल्कि कई गुना ज्यादा बढोत्तरी हो जाती है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि लंबे समय तक टॉयलेट सीट पर बैठने से निचले मलाशय में गुदा की नसों पर दबाव बढ़ जाता है, जिससे लोगों को जाने अनजाने में यह समस्या हो जाती है और वो समझते हैं कि खान पान के वजह से उन्हें बवासीर (piles problem in hindi) जैसा कष्टदायक रोग हो गया। विशेषज्ञों के अनुसार, टॉयलेट में बैठकर फोन चलाने से लोअर रेक्टल में अधिक खिंचाव होता है, जो bavasir ka karan बनता है।

बवासीर के परिणामो से वाकिफ हैं लोग

अधिकांश लोग शौचालय में बैठे फोन चलाते हैं ताकि वे अपने सोशल मीडिया अपडेट और अन्य महत्वपूर्ण काम करते रहे क्योंकि भाग दौड़ भरी जिंदगी में लोग अपना कीमती समय बर्बाद नही करना चाहते। मोबाइल फोन (smartphone) का इस्तेमाल करते हुए वो नॉर्मल से कहीं ज्यादा समय तक शौचालय में ही बैठे रह जाते हैं। कुछ लोग इस आदत के खतरनाक परिणामों से अच्छी तरह वाकिफ हैं।

नोएडा के जेपी अस्पताल में जीआई एंड एचपीबी सर्जरी विभाग के कार्यकारी सलाहकार, दीपांकर शंकर का कहना है कि, ” टॉयलेट में बैठे फोन पर बहुत समय बिताने से हमारे निचले रेक्टल म्यूकोसा के साथ-साथ गुदा कुशन में अधिक खिंचाव पैदा होगा। इसलिए बवासीर या पाइल्स जैसी समस्या 101 प्रतिशत उतन्न हो जाएगी। यदि आप यह पोस्ट पढ़ रहे हैं और आपको बवासीर नही है तो आप चाहे तो इस तरीके को आजमा सकते हैं। आप जल्द ही बवासीर से ग्रसित हो जाएंगे।

इसे भी पढ़े-

जानिए क्या है बवासीर के लक्षण, कारण व उपाय| piles meaning in hindi

about piles in hindi | जानिए आखिर क्या है बवासीर

गुरुग्राम के नारायण सुपरस्पेशलिटी अस्पताल के एक गैट्रोनेट्रोलॉजी सलाहकार नवीन कुमार भी इस बात से सहमत हैं कि बहुत अधिक समय तक टॉयलेट सीट पर बैठे रहना और उस दौरान स्मार्टफोन पर रहना बवासीर के खतरे को बढ़ा सकता है। आमतौर पर लोग स्मार्टफोन चलाते समय टॉयलेट सीट पर लंबे समय तक बैठे रहते हैं।

कुमार ने कहा, “वास्तव में स्मार्टफोन का उपयोग करना कोई वास्तविक समस्या नहीं है। बल्कि, लंबे समय तक टॉयलेट सीट पर बैठे रहने से बवासीर हो सकता है।” उन्होंने कहा कि बहुत देर तक बैठने और खिंचाव के कारण खूनी बवासीर हो सकती है। इसके साथ ही दर्द भी। सूजन और खून जैसी समस्या का होना आम बात है।

हाल ही में यूजीओवी के एक सर्वेक्षण में पता चला है कि 57 प्रतिशत ब्रिटिश लोग अपने फोन का उपयोग शौचालय में करते हैं, जबकि आठ प्रतिशत का दावा है कि वे हमेशा ऐसा करते रहे हैं।

गुरुग्राम के फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट में मिनिमल एक्सेस, बैरिएट्रिक और जीआई सर्जरी के वरिष्ठ सलाहकार बिजेंद्र कुमार सिन्हा का कहना है कि शौचालय में स्मार्टफोन का उपयोग करने में समस्या होती है, जब ऐसा नहीं होता है तो वहां समय का उपयोग किया जाता है।

सिन्हा ने कहा कि अगर कोई व्यक्ति बहुत अधिक समय तक शौचालय में बैठा रहता है, तो उसे मल त्याग करते समय परेशानी का सामना करना पड़ सकता है और लगातार परेशानी से बवासीर होता है।

Source: http://www.WebMD.com