ब्लड टेस्ट या लिवर फंक्शन टेस्ट | blood test or liver function panel in hindi

Blood test क्या है? What is blood test

कई लोगो के मन में सवाल होता है कि आखिर blood test kise kahte hai या फिर what is blood test in hindi. तो हम आपको बताते चलें कि blood test उस समय को कहते हैं जब प्रयोगशाला में परीक्षण के लिए रक्त का एक नमूना शरीर से लिया जाता है।  blood test or liver function panel in hindi का मतलब एक ही है। आप ब्लड टेस्ट को लीवर फंक्शन पैनल भी बोल सकते है।

डॉक्टर ग्लूकोज, हीमोग्लोबिन या श्वेत रक्त कोशिकाओं के स्तर जैसी चीजों की जांच के लिए रक्त परीक्षण कराने को कह देते हैं। इससे उन्हें बीमारी या चिकित्सा स्थिति जैसी समस्याओं का पता लगाने में काफी मदद मिलता है। कभी-कभी ब्लड टेस्ट इसलिए भी कराया जाता है ताकि ये पता लगाया जा सके की अंदरूनी अंग (जैसे कि यकृत या गुर्दे) ठीक तरीके से काम कर भी रहे हैं या नहीं।

लिवर फ़ंक्शन पैनल क्या है? What is liver function panel in Hindi

Liver function panel एक blood test है जो डॉक्टरों को liver की चोट, संक्रमण या बीमारी की जाँच करने में मदद करता है। लिवर फंक्शन पैनल कुछ दवाओं से लीवर में होने वाले दुष्प्रभावों की भी जांच कर सकते हैं।

लिवर फंक्शन पैनल क्यों किये जाते हैं? Why are liver function panels done in hindi 

एक लीवर फंक्शन पैनल का उपयोग निम्नलिखित चीजो के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए किया जाता है:

Albumin protein: यह प्रोटीन मांसपेशियों, हड्डियों, रक्त और अंग के ऊतकों को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करते हैं। इसकी कमी होने पर लीवर रोग या गुर्दे की बीमारी या पोषण संबंधी समस्याएं उत्पन्न हो सकती है।

Liver enzymes: क्षारीय फॉस्फेटस (एएलपी), एलनिन एमिनोट्रांस्फरेज (एएलटी), और एस्पार्टेट एमिनोट्रांस्फरेज (एएसटी)। ये एंजाइम भोजन को ऊर्जा में परिवर्तित करने में मदद करते हैं। जब उनका स्तर ऊंचा हो जाता है, तो यह संकेत दे सकता है कि liver घायल हो सकता है।

Bilirubin: बिलीरुबिन तब बनता है जब लाल रक्त कोशिकाएं टूट जाती हैं। लीवर बिलीरुबिन की जगह लेता है ताकि इसे शरीर से हटाया जा सके। शरीर में बिलीरुबिन का स्तर ज्यादा हो जाने पर यह इस बात का संकेत हो सकता है कि लीवर में कोई समस्या उत्पन्न हो सकती है। इससे त्वचा रूखी हो सकती है, पीलिया नामक गंभीर रोग हो सकता है।

👉   किडनी इन्फेक्शन क्या होता है और कैसे होता है…

Liver function panel से पहले क्या किया जाता है

आपको परीक्षण से 8 से 12 घंटे पहले खाना बंद करने के लिए कहा जा सकता है। अपने चिकित्सक को उन दवाओं के बारे में बताएं जिसका सेवन आप अभी तक कर रहे थे। जहाँ तक हो सके तो पुराने दवा की पर्ची या रैपर लेते जाए।  क्योंकि कुछ दवाएं परीक्षण के परिणामों को प्रभावित कर सकती हैं।

परीक्षण वाले दिन आपको टी-शर्ट या अन्य शॉर्ट-स्लीव टॉप पहनने को बोला जाएगा जिससे कि शरीर में खुलापन रहे और ब्लड सर्कुलेशन बिल्कुल नॉर्मल तरीके से होता रहे।

Liver function panel या blood test कैसे किया जाता है?

अधिकांश रक्त परीक्षण के दौरान सुई के मदद से शीशी की छोटी सी डिबिया में आपका रक्त लेते हैं और उसी रक्त को जांच के लिए भेज दिया जाता है। हालांकि रक्त निकालने से पहले ये स्टेप किये जाते हैं।  👇

Blood test or liver function panel in hindi
Pixabay
  1. त्वचा को रगड़ा जाता है.
  2. नसों में रक्त भर जाने के बाद एक इलास्टिक बैंड (टूर्निकेट) से कस दिया जाता है.
  3. एक नस में सुई डाली जाती है (आमतौर पर हाथ कोहनी से थोड़ा नीचे और आगे की तरफ)
  4. रक्त के नमूने को सिरिंज के मदद से खींचा जाता है.
  5. रुई रखकर सुई को निकाल लिया जाता है.

प्रक्रिया के दौरान आराम करने और स्थिर रहने की कोशिश करना सबसे अच्छा है क्योंकि मांसपेशियों को हिलाने से रक्त खींचने के लिए कठिन और अधिक दर्दनाक हो सकता है। और अगर आप सुई से डरते हैं तो आपको थोड़ा हिम्मत रखना होगा क्योंकि इसके अलावा कोई और उपाय नहीं होता जिसे अमल में लाया जा सके। आप चाहे तो सांस रोककर दूसरी तरफ देख सकते हैं। या इयरफोन लगाकर मन पसंद संगीत सुन सकते हैं।

Blood test करने में कितना समय लगता है? How long does it take to test blood?

अधिकांश रक्त परीक्षण में बस कुछ ही मिनट लगते हैं। कभी-कभी, एक नस खोजने में कठिनाई होती है और वो आसानी से नही मिलता। इस दौरान डॉक्टर को एक से अधिक बार प्रयास करने की आवश्यकता हो सकती है।

ब्लड टेस्ट के बाद क्या होता है? What happens after a blood test?

ब्लड टेस्ट करने के बाद डॉक्टर बैंड और सुई को हटा देगा और रक्तस्राव को रोकने के लिए रुई या पट्टी के साथ क्षेत्र को कवर कर देगा जहाँ से ब्लड निकाला गया है। बाद में, कुछ हल्के उभार हो सकते हैं, जो कुछ दिनों अपने आप ही खत्म हो जाएंगे।

Liver function panel के result कब तैयार होते हैं?

रक्त के नमूनों को एक मशीन द्वारा संसाधित किया जाता है, और परिणाम उपलब्ध होने में कुछ घंटों से लेकर एक दिन तक का समय लग सकता है। यदि परीक्षण के परिणाम किसी समस्या के संकेत दिखाते हैं, तो चिकित्सक अन्य परीक्षणों का पता लगाने के लिए आदेश दे सकता है कि समस्या क्या है और इसका इलाज कैसे किया जाए।

क्या ब्लड टेस्ट से कोई जोखिम हो सकता है? Can there be any risk from a blood test?

Blood test or liver function panel in hindi, जोखिम के साथ एक सुरक्षित प्रक्रिया है। कुछ लोगों को परीक्षण से बेहोशी महसूस हो सकती है। कुछ लोगों को सुइयों से डर लगता है। यदि आप भी चिंतित हैं, तो प्रक्रिया को आसान बनाने के तरीकों के बारे में परीक्षण से पहले डॉक्टर से विचार विमर्श कर ले और उन्हें सभी बातें खुलकर समझा दे।

Blood test किये गए स्थान के चारों ओर एक छोटी चोट या हल्के चकत्तों का रहना आम बात है और यह कुछ दिनों तक रह सकते हैं। निशान खत्म ना होने या लंबे समय तक रहने पर चिकित्सीय सहायता ले।

यदि आपके पास liver function panel के बारे में कोई प्रश्न हैं, तो अपने डॉक्टर से बात करें और किसी experience doctor से ही blood test कराए।

Artical source : https://www.labtestsonline.org.au/learning/test-index/liver-function